ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय संस्कृत समाचार तिथि / पंचाग कथा / कहानियां शास्त्रों से धार्मिक पर्यटन स्थल विचार / लेख
अब प्रत्येक जिले में होगा अनुगूँज - डॉ. प्रभुराम चौधरी
January 31, 2020 • Admin

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने आज यहाँ रविन्द्र भवन में अनुगूँज कार्यक्रम के पुन: प्रदर्शन का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि शासकीय स्कूलों के बच्चों में भी प्रतिभा होती है, आवश्यकता उन्हें सही अवसर, संसाधन एवं समुचित मार्गदर्शन देने की है। सही मार्गदर्शन मिलने पर ये बच्चे कला, खेल एवं अन्य क्षेत्रों में आगे आकर देश एवं प्रदेश का नाम रोशन करेंगे। अनुगूँज की अभिनव पहल बच्चों के सर्वांगीण विकास में मील का पत्थर साबित होगी। उन्होंने कहा कि स्टीम के क्रियान्वयन की एक कड़ी के रूप में ही अनुगूँज को प्रारंभ किया गया है। किताबी ज्ञान से इतर बच्चों को कला, संगीत, गायन, वादन और नाट्य विधाओं में भी आगे बढ़ने के अवसर मिलने चाहिए। वर्तमान सरकार शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने एवं बच्चों को शिक्षा के अलावा उन्हें अन्य क्षेत्रों में भी आगे बढ़ाने के लिये हर संभव प्रयास कर रही है। प्रत्येक तीन माह में पालक-शिक्षक बैठक, उमंग मॉड्यूल, कक्षा-साथी एप, स्टीम कान्क्लेव, शिक्षकों का प्रशिक्षण एवं एक्सपोजर विजिट सहित कई नवाचार किये जा रहे हैं। साथ ही स्कूली शिक्षा के उपरान्त कैरियर काउन्सलिंग तथा किशोरावस्था से संबंधित शारीरिक/मानसिक समस्याओं के समाधान के लिये एम.पी.एस्पायर पोर्टल प्रारंभ किया गया है, जिसमें राज्य स्तर के साथ सभी विकासखण्डों में भी परामर्श केन्द्र स्थापित किए गए हैं। डॉ. चौधरी ने कहा कि नये सत्र से अनुगूँज जैसे कार्यक्रम प्रत्येक जिले में आयोजित करने की योजना है ताकि प्रदेश के सुदूर ग्रामीण अंचलों के बच्चों को भी अपनी प्रतिभा को निखारने का अवसर मिल सके।

भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री श्री आरिफ अकील ने इस अवसर पर कहा कि हमारे स्कूलों के बच्चे भी अवसर और मार्गदर्शन मिलने पर राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश का नाम रौशन कर सकते हैं। उन्होंने खेल गतिविधियों में भी बच्चों को आगे बढ़ाने की बात कही। कार्यक्रम में जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा भी उपस्थित थे।

प्रमुख सचिव श्रीमती रश्मि अरूण शमी ने अनुगूँज के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि हर बच्चे में प्रतिभा होती है और सही अवसर एवं मंच मिलने पर ये बच्चे भी नये कीर्तिमान स्थापित कर सकते हैं। अनुगूँज में भोपाल जिले की शासकीय शालाओं के लगभग 500 से अधिक बच्चे गायन-वादन एवं नृत्य प्रस्तुत करेंगे। बच्चों ने राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त गुरूओं से मार्गदर्शन प्राप्त किया है। ये सभी गुरूजन भी शासकीय स्कूलों में ही पढ़े हैं।

अनुगूँज में बच्चों ने आकर्षक प्रस्तुतियां दी। बच्चों के अद्भुत प्रदर्शन ने दर्शकों अभिभूत कर दिया। अद्भुत, अकल्पनीय और मनमोहक प्रस्तुतियों ने दर्शकों की खूब तालियां बटोरी।