ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय संस्कृत समाचार तिथि / पंचाग कथा / कहानियां शास्त्रों से धार्मिक पर्यटन स्थल विचार / लेख
औंधे मुंह गिरा शेयर बाजार, 2008 के बाद सेंसेक्स में सबसे बड़ी गिरावट
February 29, 2020 • Admin

नई दिल्ली: आखिरकार वही हो गया जिसका डर था. देश में आंशिक रूप से आर्थिक मंदी के संकेत नजर आने लगे हैं. अंतरराष्ट्रीय शेयर बाजारों में आई गिरावट के बाद शुक्रवार को भारतीय बाजार भी धराशायी हो गया. सेंसेक्स सुबह खुला ही 1000 अंक नीचे और शाम आते आते 1448 अंक नीचे आ गया. जानकारों का कहना है कि 2008 में आर्थिक मंदी के दौरान आई गिरावट के बाद ये पहली बार है जब बाजार में किसी एक दिन इतनी गिरावट दर्ज की गई हो. सेंसेक्स 1448 अंकों की गिरावट के सात 38, 295 में बंद हुआ, जबकि निफ्टी 431 अंकों की गिरावट के बाद 11,201 अंकों में बंद हुआ.

अनिश्चितता और डर के बीच गिरावट जारी
जानकारों का कहना है कि चीन में कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से घरेलू बाजार में गिरावट का असर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दिखने लगा है. अमेरीकी बाजार वॉलस्ट्रीट डाओ जोन्स ने बाजार बंद होने तक रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की है. 

भारत में रिलायंस और महिंद्रा के शेयर को भारी नुकसान
इधर घरेलू शेयर बाजार में अंतरराष्ट्रीय बिकवाली का बुरा असर दिखा. सुबह से ही टेक महिंद्रा (Tech Mahindra) , टाटा स्टील (Tata Steel), बजाज फाइसेंस (Bajaj Finance) एचसीएल और एसबीआई (SBI) को भारी नुकसान उठाना पड़ा है. शेयर बिकवाली का सबसे ज्यादा असर रिलायंस इड्स्ट्रीज (Reliance) को उठाना पड़ा. ट्रेडिंगबेल्स के सीनियर एनालिस्ट संतोष मीणा का कहना है कि कोरोना वायरस के भय के कारण सभी अंतरराष्ट्रीय बाजार निशारा और डर से भरा नजर आ रहा है. इसकी सीधा असर घरेलू बाजार में दिखा है. बाजार में तेजी की उम्मीद बेहद कम है. 


बता दें कि कोरोना वायरस का दंश अब चीन के बाहर दिखने लगा है. दक्षिण कोरिया में वायरस के 2000 से ज्यादा मामले सामने आए हैं. इसके अलावा इटली और ईरान में मामले बढ़ने लगे हैं. वायरस की वजह से अब तक पूरी दुनिया में 2,788 लोगों की मौत हो चुकी है.