ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय संस्कृत समाचार तिथि / पंचाग कथा / कहानियां शास्त्रों से धार्मिक पर्यटन स्थल विचार / लेख
बिजली महादेव रोप-वे का सपना होगा साकार
February 25, 2020 • Admin

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट्स में शुमार बिजली महादेव रोप-वे को ऑस्ट्रिया की टेक्निकल कमेटी ने मुहर लगा दी है। अब कागजी औपचारिकताएं मात्र एफआरए की अनुमति ही शेष रह गई है। औपचारिकताएं पूरी होते ही रोप-वे का निर्माण कार्य आरंभ होगा। मंदिर कमेटी की हदबंदी पर सहमति बन गई है। मंदिर परिसर की हद से बाहर यानी 70 मीटर नीचे रोप-वे बनेगा। जहां पहले प्रशासन और कंपनी द्वारा रोप-वे लगाने के लिए जगह चयनित की थी, वह मंदिर परिसर एरिया में आ गया था और कमेटी ने आपत्ति जताई थी।
कमेटी मंदिर परिसर से 70 मीटर नीचे रोप-वे को लेकर नाराज नहीं थी। बिजली महादेव रोप-वे निर्माण के लिए नई साइट की फिजिबिलिटी रिपोर्ट को लेकर ऑस्ट्रिया की एक कंपनी की टेक्निकल कमेटी ने जांच की थी। इस कमेटी ने मंदिर परिसर से करीब 70 मीटर नीचे चयनित की गई साइट को ठीक बताया और साइट विजिट कर उस पर मुहर लगा दी गई है। लिहाजा, अब उम्मीद है कि इसका निर्माण कार्य शुरू होगा। बिजली महादेव रोप-वे निर्माण की लागत 150 करोड़ रुपए बताई जा रही है। ऊषा ब्रेको कंपनी बिजली महादेव रोप-वे का निर्माण करेगी। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हिमाचल के प्रभारी थे, तो उस दौरान उन्हें बिजली महादेव की यह तपोस्थली बेहद सुंदर लगी थी। यही नहीं, जब वह देश के प्रधानमंत्री बने, तब से लेकर वह जब भी हिमाचल आए, तो बिजली महादेव को याद करते आ रहे हैं।
पांच नवंबर, 2017 को भी ढालपुर में उन्होंने सबसे पहले बिजली महादेव को याद किया था और अपने पल याद किए थे। शिवभूमि मंडी में जब पिछली बार आए थे, तो वहां भी उन्होंने बिजली महादेव को पर्यटन की दृष्टि से संवारने की बात मंच पर कही थी। सीएम जयराम ठाकुर भी बताते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनसे बिजली महादेव रोप-वे निर्माण की औपचारिकताओं की फीडबैक लेते रहते हैं। कुछ समय पहले नई साइट की फिजिबिलिटी रोप-वे निर्माण की जांच निर्माता कंपनी ने ऑस्ट्रिया की एक डॉपलेयर कंपनी से करवाई। कुल्लू प्रशासन की देखरेख में इस सर्वेयर कंपनी की टेक्निकल कमेटी ने साइट विजिट किया और जांच रिपोर्ट निर्माता कंपनी को सौंपा गया, जिसे निर्माता कंपनी ने ठीक बताया है।