ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय संस्कृत समाचार तिथि / पंचाग कथा / कहानियां शास्त्रों से धार्मिक पर्यटन स्थल विचार / लेख
लखनऊ:44 वे दिन भी सीएए के खिलाफ महिलाओ का विरोध प्रदर्शन रहा जारी, मुस्तैद रही पुलिस
February 29, 2020 • Admin

लखनऊ। नागरिकता संशोधन कानून , एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ लगातार 44 दिन से लखखऊ के घण्टा धर के मैदान में चल रहे महिलाओ के विरोध प्रदर्शन के 44वें दिन शुक्रवार की सुबह यहां आसपास पुलिस फोर्स की अधिक मौजूदगी देख कर यहंा विरोध प्रदर्शन कर रही महिलाओ के चेहरो पर चिन्ता की लकीरे देखने को मिली । कारण था सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वो मैसेज जिसमे कहा गया था कि राष्ट्रीय युवा वाहिनी की ओर से सीएए के समर्थन मे घण्टा घर से विधान सभा तक पैदल मार्च किया जाएगा। क्यूंकि दिल्ली मे सीएए के लेकर चल रहे विरोध और समर्थन के मामले मे बड़ी हुई हिंसा हुई और 35 से ज्याद लोगो की जाने चली गई करोड़ो रूपए की सम्पत्ति जल कर स्वाहा हो गई दिल्ली की घटना के बाद उत्तर प्रदेश मे भी सुरक्षा के मददे नजर पुलिस सतर्कता बरत रही है। राष्ट्रीय युवा वाहिनी द्वारा घण्टा घर के मैदान से सीएए के समर्थन मे मार्च निकाले जाने के एलान के बाद पुलिस मुस्तैद हो गई ताकि यहंा किसी तरह के टकराव के हालात न बन सके। घण्टा घर के मैदान के आसपास पुलिस को भारी सख्या मे तैनात कर दिया गया हालाकि 11 बज गए लेकिन यहंा से किसी तरह का कोई मार्च नही निकाला गया जिसके बाद पुलिस ने भी राहत की सांस ली और महिलाओ के चेहरो से तनाव भी कम हुआ। आपको बता दे कि घण्टा घर के मैदान मे सीएए के खिलाफ 17 जनवरी को 20 महिलाओ द्वारा विरोध प्रदर्शन शुरू किया गया था 17 जनवरी को जब महिलाओ ने यहंा विरोध प्रदर्शन शुरू किया था तब शहर मे धारा 144 लागू नही थी बावजूद इसके पुलिस ने महिलाओ के इस विरोध प्रदर्शन को समाप्त कराने का भरसक प्रयास किया लेकिन अटल इरादो के साथ विरोध प्रदर्शन शुरू करने वाली महिलाओ के हौसले को न तो पुलिस की सख्ती ही तोड़ पाई और न ही कड़ाके की ठन्ड सर्द हवाओ का असर ही महिलाओ पर हुआ। विरोध प्रदर्शन शुरू होने के बाद पुलिस ने गणतंत्र दिसव और डिफेन्स एक्सपो का हवाला देकर पूरे शहर में धारा 144 लागू करके विरोध प्रदर्शन का अवैधानिक करार दे दिया। 17 जनवरी से शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन आज भी लगातार जारी है। शुक्रवार की दोपहर यहंा विरोध प्रदर्शन कर रही महिलाओ की बेचैनी दोबारा उस समय फिर बढ़ गई जब चेहरे पर नकाब लगा कर आई एक युवती ने घण्टा घर चारो तरफ घूम घूम कर विरोध प्रदर्शन कर रही महिलाओ की वीडियो बनाना शुरू कर दिया युवती काफी देर तक वीडियो बनाती रही जब इस युवती को यहंा की महिलाओ ने टोका तो युवती महिलाओ से उलझ गई ऐसे हालात मे यहंा कुछ देर के लिए अफरा तफरी का महौल बनना शुरू हो गया लेकिन ऐन उसी समय वहंा सामाजिक कार्यकर्ता सुमैया राना पहुॅच गई और बेचैन महिलाओ को उन्होने शान्त कराते हुए वीडियो बनाने वाली युवती से पूछताछ शुरू की। सुमैया राना द्वारा युवती से की गई पूछताछ मे युवती ने उन्हे अपना आधार कार्ड दिखा कर बताया कि उसका यहां आने का इरादा गलत नही था बिना वजह ही लोग उस पर शक करने लगे।