ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय संस्कृत समाचार तिथि / पंचाग कथा / कहानियां शास्त्रों से धार्मिक पर्यटन स्थल विचार / लेख
लखनऊ:भाजपा सरकार के कार्यकाल में पुलिस अत्याचार अपने चरम पर -अखिलेश यादव
March 20, 2020 • Admin

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार के कार्यकाल में पुलिस अत्याचार अपने चरम पर है। कानून का राज नहीं रह गया है। नागरिकों के अधिकारों को कुचला जा रहा है। न तो किसी का सम्मान सुरक्षित है और नहीं किसी के जीवन की सुरक्षा है। थानों से सड़क तक पुलिस की मनमानी चल रही है। लोकतंत्र के लिए यह खतरे का संकेत है। कन्नौज की तिर्वा पुलिस कोतवाली में हिरासत के दौरान बर्बर पिटाई से 38 वर्षीय शिक्षक पर्वत सिंह की मृत्यु अत्यंत दुःखद है। यह अध्यापक सुक्का पुरवा, तिर्वा, औरैया का रहने वाला है। ‘हत्या प्रदेश‘ में पुलिस प्रताड़ना से कब तक निर्दोष लोग बेमौत मारे जाएंगे? मृतक के परिवार का आरोप है कि हत्या के बाद शव लटकाया गया। कन्नौज की घटना कोई पहली घटना नहीं है। भाजपा राज में अन्य जनपदों में भी हिरासत में मौतों की रिपोर्टें दर्ज है। इन सबकी उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए। भाजपा सरकार ने प्रदेश में फर्जी एनकाउण्टरों को भी शह दे रखी है। जब स्वयं मुख्यमंत्री जी ठोक दो और बोली के खिलाफ गोली की भाषा बोलते दिखाई देते हैं तो पुलिस को संयमित और अनुशासित कौन रख सकेगा? नतीजतन कहीं निर्दोषों को पुलिस ठोक रही है तो कही बेखौफ अपराधी पुलिस को ठोक रहे है। बदले की भावना से भाजपा के विरोधियों को फर्जी मामलों में फंसाया जा रहा है। जनतंत्र में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की मान्यता है। भाजपा इसको अमान्य करती है। उसके खेमें में तो असहमति देशद्रोह है। जबकि नफरत तथा असहिष्णुता को बढ़ावा दिया जाता है। भाजपा अथवा आरएसएस ने भले आजादी के आंदोलन में हिस्सा न लिया हो फिर भी उसे आजादी का महत्व कम नहीं आंकना चाहिए। नैतिक मूल्य आधारित राज नीति से लोकतंत्र मजबूत होता है और राजनीति की विश्वसनीयता भी बढ़ती है। इससे स्वतंत्रता आंदोलन के आदर्शों को सम्मान मिलता है। कुछ मामलों में तो अदालतों ने फर्जी एनकाउण्टरों में शामिल पुलिस कर्मियों को सजा दी हैं। कुछ मामलों में स्वयं संज्ञान लेकर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने राज्य सरकार को नोटिसें दे रखी हैं। कानून व्यवस्था के बिगड़े हालात में सुधार के लक्षण नहीं दिखाई दे रहे हैं। समाजवादी सरकार ने यूपी डायल 100 नं0 सेवा शुरू कर अपराध नियंत्रण की प्रभावी कार्यवाही की थी। जिसे भाजपा सरकार ने निश्क्रिय बना दिया है। समाजवादी पार्टी की सरकार में ही महिलाओं से सम्बंधित अपराधों पर रोकथाम के लिए 1090 वूमेन पावर लाइन शुरू की गई थी। वह भी अब दिखावे के लिए रह गई है।